TOP Ten Future Technology Coming To New Smartphones In Hindi | दस फ्यूचरिस्टिक टेक्नोलॉजी जो हमारे स्मार्टफोन को बदल देंगे. - Tech Talk Hindi

Latest

रविवार, 4 अक्तूबर 2020

TOP Ten Future Technology Coming To New Smartphones In Hindi | दस फ्यूचरिस्टिक टेक्नोलॉजी जो हमारे स्मार्टफोन को बदल देंगे.

 

अगर बात करे फ्यूचर में आने वाली टेक्नोलॉजी की तो पिछले कुछ सालों से हमे स्मार्टफोन में ऐसी ऐसी टेक्नोलॉजी देखने मिली है जिसके बारे हम कही सालो से बस सोचते रहते थे एक दौर था जब स्मार्टफोन का उपयोग सिर्फ कॉल, मेसेज, और थोड़ा बहोत इंटरनेट का इस्तेमाल करने के लिए करते थे. इस दौरान मोबाइल टेक्नोलॉजी में हमे कोई खास सुधार देखने नही मिला मगर जिस वक्त हम Qwerty Keypad से Touch Screen पर आए और Normal Operating System  से IOS और Android पर आये उसके बाद स्मार्टफोन की टेक्नोलॉजी में हमे जलद गाती से सुधार देखने मिला

TOP Ten Future Technology Coming To New Smartphones In Hindi


आनेवाले समय भी हमे इसी तरह कही सारी नई टेक्नोलॉजी देखने मिलेंगी जो हमारे काम और आसान बनाएंगी.आज दुनिया भर में सारी कंपनिया आएदिन कोई ना कोई तकनीक को स्मार्टफोन्स में लाती रताही है . इस आर्टिकल में हम भविष्य की ऐसी ऐसी टेक्नोलॉजी के बारे बात करेंगे जोकि फिलहाल अभी जिसकी टेस्टिंग की जा रही है या फिर थोड़े बहोत स्मार्टफोन्स में लाई गई है या जिसका सिर्फ कॉन्सेप्ट कंपनी की तरफ दे दिखया गया है .




     

    Color Changing Smartphone Technology


     कुछ सालों पहले स्मार्टफोन मे हमे Black या फिर White colour ही देखने मिलते थे मगर अगर आज की बात करे तो Gold ,Green, Blue, इस तरह के काफी अच्छे अच्छे colours स्मार्टफोन ब्रांड की तरफ देखने मिल रहे है मगर अगर ऐसा कुछ हो कि हम हमारे स्मार्टफोन का colour बदल सके तो ये काफी शानदार बात होजाएगी ऐसा ही कुछ prototype  कुछ दिनों पहले हमे दो Unique किसम के वीडियो देखने मिले थे. जिसमे  स्मार्टफोन का पिछला हिस्सा अलग अलग एंगल पर खुदबखुद रंग बदल रहा थाऔर ये भी confirm हुआ कि इस technology पर vivo smartphone कंपनी काम कर रही है . Prototype का पहल video हमे WEIBO ,की तरफ से मिला था जिन्होंने इस colour changingtechnology के बारे मे कुछ बाते बताई जिसमे Weibo ने कहा कि इस technology के अंदर

    Color changing Smartphone


    Electrochromic Glass का उपयोग किया जा रहा है जिससे स्मार्टफोन के back का हिस्सा अलग अलग एंगल पर बदल सकते है इस Video में  नीलेरंग के छटाओ से सजा स्मार्टफोन कुछ ही देर में सफेद रंग में बदल गया. ये काफी चौकाने वाली बात होजाती है .अभीतक इस तरह की Technology हमे किसी भी स्मार्टफोन में नज़र नही आईफिलहाल हमे इसका prototype देखने मिला है.मगर इस तरह के स्मार्टफोन हमे अगले एक दो सालों में देखने मिलेंगे!

     

    Under Display Camera Technology

     

    पिछले कुछ सालो में हमे फ्रंट कॅमेरा में बहोत बदलाव देखने मिले. पहले  हमे ऊपर की तरफ हेड बार  पे हमे कैमरे देखने मिलता था उसके बाद स्मार्टफोन कंपनियो ने स्क्रीन का साइज बडा करणे के लिए ए नौच का इम्प्लीमेंट  किया लेकिन  वो इतना खास दिखता नही था उसके बाद pop up कैमरे वाले स्मार्टफोन Vivo oppo xiaomi ने बाजार मे उतारे.मगर pop up कॅमेरा का motor machanism कभी ना कभी तो खराब होता ही था और वो उतना फास्ट भी काम नही करता था जितना कि नौच या फिर hade bar पर लगा हुआ कैमरा काम करता था.


    Under Display Camera Technology


    इसलिए मोबाइल कंपनियां Indisplay कॅमेरा के ऊपर काम कर रही है और इसका हमे सबसे पहले  oppo ओर फिर  xiaomi की तरफ से पिछले साल prototype  भी देखने मिला था.ये. मगर पिछले साल samsung ने भी अपने इवेंट में कहा था कि वो भी अपने under Display कॅमेरा के ऊपर काम कर रही ही और Huawei भी जल्द ही अपना  under Display prototype showcase कर सकती है.  मगर पिछले कुछ दिनों पहले चीनी टेलीकॉम कंपनी ZTC ने अपना पहला Under display Camera  स्मार्टफोन बाजार मे उतारा है. ZTE Axon 20 5यह स्मार्टफोन तकनीकी रूप से  दुनिया का पहला under display Camera Smartphone बन जाता हैखास बात ये की ZTE ने  अभीतक इस तकनीक कही पर बताया नही थानही अभीतक हमने इस बारे कही सुना था. ZTE Axon 20 5G यह पहला स्मार्टफोन होंगा जो हमे वस्तविक रूप से बाजार मे देखने मिलेंगा जिसके Screen के अंदर फ्रंट कैमरा होंगाऔर हमे बीना कोई Notch, बीना कोई Hole पंच के पूरी तरह से स्क्रीन देखने मिलेंगी .आने वाले कुछ सालों में इस तरह की टेक्नोलॉजी हमे बाकी स्मार्टफोन्स में भी देखने मिलेंगी.

     

    No Port, No Button in Smartphone Technology


    पिछले साल यानि की २०१९ में हमें VIVO की तरफ से Vivo Apex नमक एक कॉन्सेप्ट  स्मार्टफोन देखने मिला था जिसमे  हमें  ना कोई बटन देखने मिली थी और  नाही कोई पोर्ट देखने मिला था इसी तरह meizu की तरफ से एक ऐसा ही स्मार्टफोन देखने मिला था।  आने वाले समय भी स्मर्टफ़ोने को और ज्यादा कॉम्पैक्ट बनाने के लिए स्मार्टफोन कम्पनिया इस तरह के टेक्नोलॉजी का उपयोग अपने स्मार्टफोन में कर सकती है। आज हम power lock या unlock करने के लिए बटन का इस्तेमाल करते है या फिर स्मर्टफ़ोन चार्ज करने के लिए हम Micro USB type A या Type c  पोर्ट का इस्तेमाल करते है मगर इस टेक्नोलॉजी की वजह से हम इस तरह के सरे काम एक तरह के सेंसर से कर पाएंगे जैसे की अगर हमें स्मार्टफोन को ऑफ करना रहा तो बस एक विशेष जगह हालका सा दबाने से हम स्मार्टफोन बंद कर पाएंगे।  और जिस तरह आज हम स्मार्टफोन चार्ज करने के लिए केबल का इस्तेमाल करते है तो आने वाले समाये में हमें  स्मार्टफोन्स में Wireless Technology देखने मिलेंगी जिसकी मदत से हम स्मार्टफोन में बिना कोई केबल का इस्तेमाल करे स्मार्टफोन चार्ज कर सकते है. इस तरह के स्मार्टफोन्स में हमें Under Display camera, Under Display Sound technology , under fingerprint Scanner टेक्नोलॉजी  भी देखने मिलने वाली है जो की आने वाले स्मार्टफोन्स को पूरी तरह से कॉम्पैक्ट बना देंगी आने वाले सालो में इस तरह के कॉपैक्ट स्मार्टफोन हमें देखने मिलने वाले है।

     

    Harmony OS


     जब Huawei पे बैन लगा था तब सबसे जादा सदमा Huawei को Google से लगा था क्योंकि Huawei के सारे स्मार्टफोन ये Android पर ही रन करते है और आज के दौर मे दुनिया मे सबसे ज्यादा लोग Android स्मार्टफोन का ही इस्तेमाल करते है.इसलिए आगे चलके भविष्य मे अगर Google यल या बाकी USA कंपनिय भी  बैन कर सकती है ओर इन सब बातो को ध्यान मे रखते Huawei ने अपने इवेंट मे अपने खुद के Operating System का Announcement किया और Huawei ने इस Operating System नाम Harmony OS रखा है ऐसा भी कहा जा रहा है Huawei इस OS को चीन के अंदर Hongmen OS और Globally इसका नाम Harmony OS रखा जायेगा.

    Huawei Harmony OS 


    मगर क्या ये OS Google के Android को Replace कर सकता है ? क्योकी अगर हम Huawei के Official Wording की माने तो Harmony OS एक Distributed OS होंगा यने की Harmony OS हमे स्मार्टफोन मे ही नही बल्कि बाकी छोटे छोटे और अलग अलग devices में भी RUN होता हुआ दिखेगा खबरों की माने तो येभी कहा जारहा है कि Harmony OS हमे Android के मुकाबले ज्यादा fast भी देखने मिलेंगा इस OS की खास बात यहाँ की ये OS एक Microkernel base होंगा यानी इस OS को अलग अलग devices पे चलाया जा सकता है. पिछले ही साल Announcement के कुछ देर बाद ही Hauwei ने अपने पहले Harmony OS पे चलने वाले Smart TV को Showcase किया था और उस TV मे हमे Harmony OS का पहल Version देखने मिला था .दोस्तो अगर देखा जाए तो Harmony OS Android के मुकलबले जादा fast जादा Flexible ओर अच्छा Seamless Experience देगा क्युकि Google का Android शुरवात से ही स्मार्टफोन के लिए बना गया था ना कि बाकी Devices के लिए और आज के वक़्त Android सिर्फ स्मार्टफोन और थोड़ा बहोत TV, Watches तक ही सीमित है.और इसी का ध्यान रखते हुवे Google अपने नए Fuchsia OS पर भी काम कर रही है.मगर Huawei ये एक Microkernel Base होने के कारण शुरवात मे इसे स्मार्टफोन मे उपयोग करके बाकी Devices के लिए बना रही है और इसका मतलब ये की Harmony OS फिलहाल Android को टक्कर नही दे रहि और आगे भी हमे Huawei के स्मार्टफोन में Android ही देखने मिलेंगा. अगर Securities की बात करे तो Huawei का ये कहना है कि Harmony OS के बाकी OS के मुकाबले ज्यादा सुरक्षित होंगा और आज के समय कोई Cyber Attack इस OS पे करना मुमकिन नही होगा .

     

    100+W Fast Charging


    100+W Fast Charging


    आज हमें अलग अलग स्मार्टफोन ब्रांड की तरफ से उनकी अलग अलग फ़ास्ट चार्जिंग टेक्नोलॉजी देखने मिलती है जैसे की Qualcomm की Quick Charge ,Samsung  की Adaptive Fast Charging, OnePlus की Dash Charge और Warp Charge ,Oppo की तरफ से आने वाली Super Vooc Flash Charge इसी तरह और कही सरे  ब्रांड के तरफ से हमें उनकी अलग अलग फ़ास्ट चार्जिंग टेक्नोलॉजी देखने मिलती है।  इन सारि कम्पनियो की तरफ से 25 W , 33W ,40W ,45W , यहाँ तक की 65W  की चार्जिंग देखने मिलती है। मगर पिछले कुछ समये से स्मार्टफोन कम्पनिया 100W+ के ऊपर की फ़ास्ट चार्जिंग के डेमो शोकेस  कर रही है. अगर प्रैक्टिकली देखाजाये तो फ़िलहाल शाओमी की तरफ से आने वाला Xiaomi MI 10 Ultra  में हमें 120 Watt  की फ़ास्ट चार्जिंग देखने मिल जाती है इसी तरह  बहोत सारी  काम्पिया है जो आने वाले समाये में  100W+ Fast Charging होने वाले स्मार्टफोन बाजार  में लाएगी  .

     

     

    5G Technology


    आज दुनिया भर में 5GConnectivity की  बात हो रही है।  और हमें कुछ कुछ देशो में  5G टेक्नोलॉजी देखने मिल जाती है।  और अभी थोड़े बहोत स्मार्टफोन्स मे हमें 5G  का सपोर्ट देखने मिलता है मगर बात करे कनेक्टिविटी की फिलहाल पूरी तरह से  इंडिया में या पूरी दुनिया 5G कनेक्टिविटी देखने नहीं  मिलती  आने वाले कुछ सालो में हम हमारे स्मार्टफोन्स में 5G टेक्नोलॉजी का उपयोग कर कसेंगे.


    5G Technology


    अगर हम बात करे 5G की तो 4G के हिसाब से हमे इंटरनेट की स्पीड कही कही जादा मिलने वाली है .जहा हम 4G के स्पीड को MB में कैलकुलेट करते है मगर 5G की  स्पीड हमे 1GB/S + देखने मिलेगी.साथ ही साथ जो नेटवर्क की latency होंगी वो बहोत कम होंगी जहा हमे 4G की Latency स्पीड 50 millisecond का वक़्त लगता है अगर हम वेब ब्राउज़िंग या कम्यूनिकेट करते थे है वहां  5G की बात करे तो यह हमें 5Gnetwork latency Speed सिर्फ और सिर्फ 1-10 millisecond के बीच मिलेंगी जो कि अपने आप मे ही अदभुत बात होजाती है. जिससे हम यह अनुमान लगा सकते है की आने वाले समय मे हमे इंटरनेट की कितनी जादा स्पीड मिलने वाली है. और स्पीड ही नही अभी हमे गांव में या फिर भीड़भाड़ इलाके में जो low network speed  देखने मिलती है उससे भी छुटकारा मिल जाएगा क्यूंकि जो इसकी नेटवर्क कैपेसिटी है वो भी बहोत जादा मिलें वाली है और जितने भी IOT Devices होंगे उन सब मे अच्छा Improvementऔर अछि तरीकेसे आपस मे communicate कर पाएंगे. यही नही अभी जिस तरह हम हमारे devices में Storage को लेके काफी परेशान रहते है 5G आने के बाद हम बड़े आसानी से ओर चुटकियों में Cloud storage का इस्तेमाल कर सकते है फिर बात हो Online High Graphics games की या फिर movies की इस तरह की सारी सेवाओ का हम आसानी से लाभ उठा पाएंगे .


    Foldable Display Technology


    पिछले कुछ सालों से  मोबाइल कंपनी ने  अपने folding phone या folding display के concept को tease kar राही थी .और 2020 में हमे samsung ,huawei,motrola इन  कंपनियो की तरफ से folding smart phone देखेने मिल रहे है. इस teachnologyमें  फ़ोन फोल्ड रहा तो एक नॉर्मल फोन दिखता है लेकिन उसे आगर खोले तो बडे tablet की तरह खुल जाता है. अभी जो फोल्डिंग फोन बाजार में लॉंच हुऐ है जैसे कि Galaxy fold ,Galaxy fold Z ,TCL का Folding tablet ,Huawei का mate x ऐसे 7-8 इंच के फोल्डिंग Tablet या स्मार्टफोन हमे देखने मिल जाते है.


    Foldable Display Technology


    भविष्य में तो हम इन्हीं folding display को  fold ही नही  बल्की Role या अलग अलग  तरीके से आकार दे पायेंगे  लेकिन आज के दौर में आने वाले फोल्डिंग स्मार्टफोन या folding gadget हमे उतने जादा मजबूत या थोडे जदा मोठे देखने मिलते है. नॉर्मल स्मार्टफोन में आने वाली adnavceTechnology foldable स्मार्टफोन में उतनी ज्यादा देखने नही मीलती शुरवात में samsung ने जो अपना galaxy fold जब लॉंच किया था उसमें हमे screen problame देखने मिल रही थी बाद में samsung ने उसे ठीक कर दिया था. कहने का मकसद यही की Folding phone फिलहाल एक concept की  तरह देखा जाये तो ठीक है बाकी मेरे हिसाब से 2020 के  आगे के 3-4 साल मे इसे लेना ठीक नही.


    Graphene Technology



    Graphene Technology


    अपने कभी ना  कभी कही ना कही ग्राफीन के बारे सुना होगा।  यहाँ एक केमिकल मटेरियल है जो की Carbon का ही  एक हिस्सा है. ग्राफीन की बनावट की बात करे तो इसमें आपकोमॉलीक्यूएल की  एक सिंगल परत देखने मिलती है। इसके इतना हल्का और  पतला होने के कारन इसमें विदुयत परवाह बहोत जल्द गति से होता है , यहाँ काफी लचीला पदार्थ है  इस तरह की बहोत सारी खुबिया हमें ग्राफीन में देखने मिल जाती है और इसका फायदा हमें भविष्य मे होने वाला है। अगर हम ग्राफीन का  स्मार्टफोन  में होने वाले उपयोग की बात करे तो इसका उपयोग भविष्य में स्मार्टफोन के बैटरी में होने वाला है. ग्राफीन में सुपर कैपेसिटी प्रॉपर्टी है जिसकी मदत से ग्राफ़ीन से बानी हुए बैटरी को पल भर में चार्ज कर सकते है और  फ़िलहाल आने वाली  स्मार्टफोन बैटरी (lithium-ion battery )के मुकाबले  बहोत लम्बे समय तक चार्ज भी रख सकते है। पिछले कुछ समय पहले हमें Samsung ने भी कहा थी वो इस ग्राफीन बैटरी टेक्नोलॉजी के ऊपर काम कर रहे है। आने वाले समाये में ग़ाफ़िन बैटरी के साथ Samsung , vivo , Xiaomi की तरफ से  २०२१ -२०२२  तक कोई कोई स्मार्टफोन ज़रुरु देखने मिलेंगे .


    Cloud Computing


    हमने  कही बार क्लाउड कॉम्प्यूटिंग का नाम सुना है। इस टेक्नोलॉजी का उपयोग हम कही सालो से कर रहे है मगर ज्यादा तर जितने भी बड़े स्क्रीन वाले कंप्यूटर या लॅपटॉप होते है उनमे हम क्लाउड कंप्यूटिंग का उपयोग हाई ग्राफिक वाले गेम खेलने के लिए करते है।  यही नहीं जो सॉफ्टवेयर होते है जिसका हम बराबर हमारे  कंप्यूटर में इस्तेमाल नहीं कर पाते इसका भी इस्तेमाल हम क्लाउड कंप्यूटिंग के जरिये कर पाते है  यही नहीं क्लाउड  कम्प्यूटिंग के ज़रिये हम हमारे डेटा को स्टोर करना हो या फिर हमें कोई ऑनलाइन काम करना हो तो हम क्लाउड कंप्यूटिंग से आसानी से कर सकते है।  ऐसी बहोत सी कम्पनिया है जो क्लाउड सर्विसेस देती है।  


    Cloud Computing


    आजकल कल के ज़माने मे हमारे स्मार्टफोन में हमें 128 GB  तक की स्टोअरगे भी कामपड़ जाती है इसके लिए अगर हम हमारा सारा डेटा क्लॉउड स्टोरेज के ज़रिये सेव करले तो हमारी स्टोअरगे की परेशानी दूर होजाएंगी।। आने वाले समाये हमें 5G  कनेक्टिविटी की मदत से हमें इंटरनेट की बहोत अच्छी स्पीड  मिलने वाली है  और  हम हमारे स्मार्टफोन्स से ही ऑनलाइन ऐप्स का उपयोग करना हो या फिर हाई ग़ाफ़िक्स की गेम खेलना हो तो हम आसानी से क्लाउड कंप्यूटिंग का उपयोग करके आसानी से खेल सकते। यहाँ टेक्नोलॉजी पुराणी है मगर स्मार्टफोन  में क्लाउड कंप्यूटिंग का ज्यादा उपयोग नहीं होता मगर आने वाले समाये यहाँ तकनीक का उपयोग स्मार्टफोन में  बड़े पैमाने में किया जायेगा.


    Transparent display Smartphone

    Transparent display Smartphone


    हमें  कही सारी  SIFI  मूवीज में ट्रांसपेरेंट कंप्यूटर , ट्रांसपेरेंट स्मार्टफोन्स देखने मिलते है।  मगर बात करे हकीकत की तो ऐसा स्मार्टफोन्स हमें आजतक  कही देखने नहीं मिला। मगर ट्रांसपेरेंट स्मार्टफोन्स खबरे पिछले कही सालो से चल रही है. Samsung और LG की तरफ से भी हमें इस तरह के पेटेंट देखने मिले लकिन ऐसा प्रैक्टिकली कोई स्मार्टफोन देखने नहीं मिला।  इसी साल शाओमी की तरफ से एक ट्रांसपेरेंट डिस्प्ले वाला  स्मार्ट टीवी (Mi TV Lux TransparentEdition h) देखने मिला था।  जोकि  वाकई में एक ट्रांसपेरंट डिस्प्ले के साथ आता है जिसके निचे की तरफ हमें एक गोले स्टैंड  देखने मिला है  जिसके अंदर हमें टीवी के सरे पार्ट देखने मिलते है। अगर इसी तरह का मेचैनिस्म स्मार्टफोन में  करना  मुमकिन हुआ तो शायद आने वाले  कुछ सालो में हमें ट्रांसपेरेंट डिस्प्ले के स्मार्टफोन देखने मिलेंगे।

     

    कोई टिप्पणी नहीं:

    एक टिप्पणी भेजें

    If you have any thought, Please let me know